The Chopal

RBI की 500 के नोट ने बढ़ाई टेंशन, नोट को लेकर हुआ बड़ा खुलासा

Fake Currency : सरकार ने पिछले वर्ष 2000 के नोट का चलन बंद कर दिया था। सरकार के इस फैसले के बाद लोग नोट एक्सचेंज करवाने के लिए बैंक की लाइन में लगे थे। देश में 2000 के नोट को बंद करने के बाद 500 रूपए का नोट ही बड़ी करेंसी बन गया है। लेकिन अब देश की सबसे बड़ी करेंसी ने आरबीआई के टेंशन बढ़ा दी है। अब आरबीआई governor ने इस को लेकर बड़ी बात कह दी हैं। चलो जाने क्या हैं पूरा मामला- 

   Follow Us On   follow Us on
RBI की 500 के नोट ने बढ़ाई टेंशन, नोट को लेकर हुआ बड़ा खुलासा

The Chopal : पिछले साल 19 मई 2023 को, भारतीय रिजर्व बैंक ने 2000 रुपये के नोटों को बंद करने का निर्णय लिया था। अब रिज़र्व बैंक ऑफ इंडिया की सालाना रिपोर्ट में 500 रुपये के नोटों पर भी बड़ा खुलासा हुआ है। केंद्रीय बैंक को दो हजार रुपये के नोटों के बाद अब 500 रुपये के नोटों से जुड़ी ये चुनौती सामने आई है।

2000 रुपये के गुलाबी नोट बंद होने के बाद, रिजर्व बैंक के लिए ये देश का सबसे बड़ा करेंसी नोट एक बड़ी समस्या बनते जा रहे हैं। रिपोर्ट के अनुसार, 500 के नकली नोट की घुसपैठ लगातार बढ़ी है। 2022-23 में 500 रुपये के लगभग 91 हजार 110 नकली नोट पकड़े गए, यह 2021-22 से 14.6% अधिक था। 2020-2021 में 500 रुपये के 39,453 नकली नोट बरामद हुए। जबकि 2021-22 में 76 हजार 669 नकली नोट बरामद हुए।

2000 के नकली नोटों की संख्या घटी

500 रुपये के नोट और 2000 रुपये के नकली नोट भी बरामद हुए। लेकिन वित्त वर्ष 2022-23 में 2000 रुपये के नकली नोटों की संख्या 28% घटकर 9 हजार 806 नोट रह गई। 500 और दो हजार रुपये के नकली नोटों के अलावा 100, 50, 20 और 10 रुपये के नोट भी पकड़े गए हैं। भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) ने बताया कि बैंकिंग क्षेत्र में 2 लाख 25 हजार 769 नकली नोट पकड़े गए, जबकि पिछले साल 2 लाख 30 हजार 971 नकली नोट पकड़े गए थे। 

20 रुपये के नकली नोटों की घुसपैठ बढ़ी

20 रुपये के 500 रुपये के नकली नोटों की संख्या इस साल बढ़ी है। 2022-23 में 20 रुपये के नकली नोटों में 8,4% की वृद्धि हुई है। साथ ही, 10 रुपये के नकली नोटों में 11.6% और 100 रुपये के नकली नोटों में 14.7% की कमी आई है। आरबीआई ने अपनी एनुअल रिपोर्ट में नकली नोटों के अलावा नोटों पर होने वाली छपाई की पूरी जानकारी दी है। 2022-23 में आरबीआई ने नोट छापने पर 4 हजार 682.80 करोड़ रुपये खर्च किए। 2021-22 में छपाई पर 4 हजार 984.80 करोड़ रुपये खर्च हुए थे

10 और 500 के नोटों की सर्कुलेशन में बड़ी हिस्सेदारी

सर्कुलेशन के मामले में, सबसे अधिक सर्कुलेशन में 10 रुपये और 500 रुपये के नोट हैं। 31 मार्च, 2023 तक 500 के नोटों का वॉल्यूम देश की कुल करेंसी सर्कुलेशन का 37.9 प्रतिशत था। 10 रुपये के नोट की हिस्सेदारी इसके बाद 19.2% है। RBI को 500 रुपए के नकली नोटों को सिस्टम से बाहर निकालना महत्वपूर्ण कार्य है।