The Chopal
हरियाणा, पंजाब गेहूँ रकबे को सरसों में बदले : एसईए
 

The chopal , krishi News 

Haryana Punjab convert wheat acreage into mustard : सोल्वेंट एक्सट्रैक्टर एसोसिएशन ने केन्द्र सरकार को सुझाव दिया है कि हरियाणा पंजाब के 60 लाख हेकटेयर गेहूँ रकबे का न्युन्तम 50% सरसो की तरफ सथानातरीत किया जा सकता है जिससे करीब 60 लाख टन अतिरिक्त फसल उपलब्ध होगी जिससे 25 लाख लीटर अतिरिक्त तेल उपलब्ध होगा  .

 एसोसीएशन ने कहा कि केन्द्र सरकार ने नेशनल मिशन ऑफ एडिबल् ऑयलस ऑयल पाम के लिए 11 हजार करोड़ रुपये के आबटन करके सराहनीय कदम उठाया है लेकिन इसमे 5 हजार करोड़ रुपये प्रति वर्ष आबटन के साथ मिशन में सरसों, मूंगफली, सोयाबीन को भी शामिल किया जाना चाहिए इससे खाद्य तेल की घरेलू मांग और उत्पादन के बीच बड़े अंतर को पाटने मे मदद मिलेगी  .  साथ ही कच्चे खाद्य तेलो और सीपीओ पर कृषि उपकर सहित करीब 8.25% है जबकि सुरजमुखी तेल, कच्चे सोयाबीन तेल पर 5.5% आयात शुल्क है इनको एक समान किया जाना चाहिए .

एसोसिएशन ने यह भी सुझाव दिया है की तारीख 31-12-21 से आगे न बढ़ाकर इसे फ्री से हटाकर प्रतिबंधित श्रेणी मे  रखना चाहिए  .  तिलहन फसलों के लिए जीएम सरसों बीज जो पहले से ही तिलहन श्रेणी के तरह विकसित किया जा चुका है जल्द से जल्द जारी किया जाना चाहिए  .  देश के गरीब लोगों को सस्ते खाद्य तेल उपल्बध करवाने की दिशा में सरकार इन उपायों का प्रयोग करके बेहतर सुविधा प्रदान कर सकती है .