The Chopal

Rajasthan Weather: राजस्थान में मौसमी बदलाव जारी, इस तारीख तक जारी रहेगा शीतलहर अलर्ट

 

The Chopal, जयपुर : राजस्थान इन दिनों शीतलहर का प्रकोप अब लगातार बढ़ता जा रहा है। शनिवार मकर संक्राति से ही पूरे प्रदेश में तेज सर्दी दोबारा शुरू हो गई है। रविवार को भी सुबह से ही इसका असर काफी देखने को मिला। माना जा रहा है कि राजस्थान के सभी शहरों में आगे भी इसी तरह तापमान में कुछ बढ़ोतरी दर्ज होगी। राज्य के मौसम केंद्र जयपुर का कहना है कि इस सप्ताह प्रदेश में फिर से ठंड तेज भी हो जाएगी। और शीतलहर चलने से तापमान बढ़ेगा।

प्रदेश में फतेहपुर व चूरू सबसे ठंडे स्थान रहे, जहां रविवार को तापमान शून्य से क्रमश: 4.7 डिग्री तक और 2.7 डिग्री सेल्सियस नीचे तक दर्ज किया गया। मौसम विज्ञान विभाग के एक अधिकारी ने यह जानकारी सांझा की। मौसम विज्ञान विभाग के प्रवक्ता ने आगे बताया कि पश्चिम राजस्थान के कई इलाकों पर भीषण शीतलहर का प्रकोप है, जिसकी वजह से अजमेर, कोटा और उदयपुर संभाग में उल्लेखनीय रूप से न्यूनतम तापमान में गिरावट भी आई है।

जानें प्रदेश में कहां कितना रहा तापमान

मौसम विभाग के अनुसार चित्तौड़गढ़ में न्यूनतम तापमान शून्य से 1.4 डिग्री सेल्सियस नीचे तक दर्ज किया गया। वहीं सीकर में तापमान 0.5 डिग्री सेल्यिस तक, भीलवाड़ा में 0.6 डिग्री, बीकानेर में 1.2 डिग्री, पिलानी में 1.6 डिग्री, बारां में 1.7 डिग्री और संगारिया में 1.8 डिग्री सेल्सियस तक दर्ज किया गया। मिल जानकारी के मुताबिक राजस्थान के सभी अहम शहरों में रविवार को न्यूनतम तापमान सात डिग्री से नीचे तक दर्ज किया गया।राज्य की राजधानी जयपुर में अधिकतम और न्यूनतम तापमान क्रमश: 19.5 डिग्री और 5.6 डिग्री सेल्सियस तक दर्ज किया गया।

20 जनवरी से पड़ेगी तेज ठंड

मौसम विशेषज्ञों के मुताबिक अब 20 जनवरी तक लोगों को कड़ाके की सर्दी का सितम झेलना पड़ेगा। हालांकि 19 जनवरी तक भी कई इलाकों में शीतलहर की मार लोगों को झेलनी पड़ेगी। जयपुर मौसम केंद्र ने 19 शहरों के लिए पहले से ही येलो और आरेंज अलर्ट जारी किया है। मौसम विभाग के जयपुर केंद्र के निदेशक राधेश्याम ने बताया कि प्रदेश में हर जगह ही एक से दो गिरावट रहेगी। हिमालय के इलाकों में बर्फबारी के कारण मैदानी इलाकों में प्रभाव देखने को मिलेगा। इस वजह से सर्दी बढ़ी रहेगी।

Also Read: देश में गिरेगी गेहूँ की कीमतें, कृषि विभाग के आंकड़ों मुताबिक इतना बढ़ जाएगा इस साल उत्पादन