The Chopal
खुशखबरी! सरकार ने दोबारा चालू किया ये पोर्टल, किसानों को मिलेगा लाभ, अच्छे दामों में बिकेंगी फसलें
 

The Chopal, हरियाणा: देश के किसान उपज के लिए बहुत मेहनत करते है। सरकार भी मेहनत के उचित दाम देने के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) पर खरीद करती है। इसके लिए हर अनाज या अन्य फसल का एक भाव सरकार द्वारा तय किया जाता है। इसी तरह अब देश के हरियाणा राज्य में सरकार द्वारा 100 से ज्यादा कृषि मंडियों में 1 अक्टूबर से खरीफ फसलों की खरीददारी शुरू कर दी जायेगी.  प्रदेश के हरियाणा कृषि एवं किसान कल्याण विभाग की ओर से जारी नोटिफिकेशन के अनुसार , MSP पर मूंग की खरीद 1 अक्टूबर से 15 नवंबर, मूंगफली की खरीद 1 नवंबर से 31 दिसंबर और तिल की खरीद के लिये 1 दिसंबर से 1 दिसंबर तक का समय सरकार द्वारा दिया गया है. अगर आप भी हरियाणा राज्य के किसान है। और आप भी सरकार को MSP पर गेहूं बेचना चाहते है। पर अभी तक मेरी फसल मेरा ब्यौरा पंजीकरण नहीं करवाया है।  तो ये खबर बहुत ही बढ़िया है।जानकारी के लिए बता दे कि 24 सिंतबर तक दोबारा पंजीकरण की सुविधा शुरू कर दी गई है.     


यहाँ करें रजिस्ट्रेशन

न्यूनतम समर्थन मूल्ययानी MSP पर फसलों को बेचने के लिये हरियाणा सरकार के आधिकारिक पोर्टल मेरी फसल मेरा ब्यौरा पर रजिस्ट्रेशन करवाना जरूरी है. 

अगर अभी तक फसलों की बिक्री के लिये रजिस्ट्रेशन नहीं करवाया है तो सरकार ने रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया 24 सितंबर तक दोबारा अब खोल दी गई है. 
इस बार बिना देरी किये पंजीकरण करवायें और अपने कृषि उत्पादों के सही दाम और संबंधित कृषि योजनाओं को फायदा उठायें.

जानकारी के लिए बता दें कि पंजीकरण लिंक के लिये राज्य सरकार ने लिंक भी जारी कर दी है. https://fasal.haryana.gov.in पर जाकर किसान खुद को रजिस्टर कर सकते हैं

ये हैं खरीफ फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य(MSP)

केंद्र सरकार ने खरीफ विपणन सत्र-2022 के लिये कुछ फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य जारी भी कर दिये हैं, इसमें-

मूंगफली की MSP 5850 रुपये प्रति क्विंटल
तिल की MSP -: 7830 रुपये प्रति क्विंटल 
मूंग की MSP-: 6600 रुपये प्रति क्विंटल
अरहर की MSP-: 6600 रुपये प्रति क्विंटल
उड़दकी MSP-: 6600 रुपये प्रति क्विंटल

किसान यहां करें संपर्क

खरीफ विपणन सत्र-2022 के तहत 'मेरी फसल मेरा ब्यौरा पोर्टल' पर फसलों के पंजीकरण में अगर किसानों को कोई समस्या आ रही है तो किसान हेल्पलाइन नंबर 1800-180-2117 (Kisan Helpline Number) पर कॉल करके तुरंत समाधान पा सकते हैं. किसानों के लिये रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया को और आसान बनाने के लिये हरियाणा सरकार (Haryana Government) ने क्यूआर कोड़ भी जारी किया है, जिसे स्कैन करके अपनी फसल का पंजीकरण भी कर सकते हैं.