The Chopal
इस घर में गाय और बछड़ा जीते हैं लग्जरी लाइफ, जानिए
 

The Chopal, Jodhpur 

Jodhpur Cow House : आपने आज तक बहुत से ऐसे घर देखे होंगे जहां पर लोगों के साथ पलंग पर कुत्ते और बिल्लियों सोते हैं. कुत्ते और बिल्लियों को पालना लोग अपनी शान समझते हैं. लेकिन आपने आज तक कभी ऐसा नहीं सोचा होगा कि राजस्थान के जोधपुर में एक ऐसा भी घर है. जहां गाय और बैल पलंग पर बड़े ही आराम से सोते हैं. इस घर में गाय और बैल को भगवान के रूप में पूजा जाता है. इनका परिवार के सदस्यों के साथ एक अनोखा रिश्ता है. गौ सेवा के नाम पर कई अमीर लोग लाखों रुपए दान करते हैं और टीवी पर दिखाए जाते हैं. लेकिन असल में गोसेवा क्या होती है इसका पता आपको जोधपुर के घर में चलेगा.

जोधपुर के सुभाष नगर निवासी प्रेम सिंह कचवाहा और उनकी पत्नी संजू कंवर की गो भक्ति को देखकर हर कोई हैरान हो जाता है. इनके घर में गाय को एक पशु न मानकर परिवारिक सदस्य माना जाता है. इनके घर में कुल 3 गाय और एक बछड़ा है. बछड़े की उम्र 1 साल है. इस बछड़े का नाम उन्हें पृथू रखा हुआ है. संजू कंवर ने बताया कि सुबह भी अपने बछड़े को चारा खिलाकर स्नान करा देती है और जैसे ही वे सूख जाता है. सीधा भागकर अपने कमरे में जाकर पलंग पर चढ़ जाता है. वह लगभग 2 घंटे आराम करता है.

गंदा नहीं करते बिस्तर

संजू कंवर ने बताया कि उनके घर में रहने वाली गौमाता और नंदी महाराज बिस्तर पर सोते जरूर है लेकिन उन्हें यह पता है कि गोबर कहां करना है और पेशाब कहां करना है. जब उन्हें इस चीज का आभास होता है तो वहां से उठकर निर्धारित जगह पर जाकर गोबर और पेशाब करते हैं. इसके लिए उन्होंने बकायदा सभी गोधन को ट्रेनिंग दे रखी है.

राष्ट्रीय पशु का मिले दर्जा

संजू कंवर ने सरकार से मांग की है कि गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित करें. वर्तमान समय में खेती में बैलों का उपयोग नहीं होता हैं. ऐसे में लोग इन्हें छोड़ देते हैं. उन्होंने लोगों से अपील की है कि घर में गाय जरूर पालें. इससे नकारात्मकता खत्म होती है. उन्होंने कहा कि गाय पालने के बाद ही आपको समझ आएगा कि किस प्रकार से वह नकारात्मकता को खत्म कर देती है. बकौल संजू कंवर हमारे घर में सकारात्मकता ही देखने मिलेगी. उन्होंने कहा कि देश ही नहीं दुनियाभर के लोग उन्हें जानते हैं तो उसके पीछे सबसे बड़ी वजह गौमाता है. क्योंकि उनकी वजह से ही उनको यह तवज्जो मिलती है.