The Chopal

स्टॉक कम होने के कारण गेहूं की कीमतों में जबरदस्त उछाल

 

The Chopal, New Delhi: गेहूं की कीमतों में जबरदस्त उछाल देखने को मिल रहा है.  गेहूं की कीमतों में तेजी को लेकर जानकारों का कहना है कि मुक्त बाजार से गेहूं की आपूर्ति नहीं हो रही है. पूर्वी भारत की मंडियों में गेहूं की कमी है. जबकि उत्तर प्रदेश की मंडियों में गेहूं का स्टॉक काफी कम है. गुजरात से यूपी की मंडियों में गेहूं आता है

गेहूं के भाव 3000 रुपए / क्विंटल के पार पहुंच गए हैं. दिल्ली में गेहूं का भाव 3,044.50 रुपये / क्विंटल पर पहुंच गया, जबकि उत्तर प्रदेश में भी यह 3,000 रुपये / क्विंटल को पार कर गया. बता दें कि 2023 के लिए गेहूं का एमएसपी 2125 रुपए / क्विंटल था. आपूर्ति नहीं होने से कीमतों में तेजी का सिलसिला जारी है. ओपन मार्केट सेल्स स्कीम (ओएमएसएस) के जरिए गेहूं की बिक्री की स्थिति स्पष्ट नहीं है.

गेहूं की कीमतों में तेजी को लेकर जानकारों का कहना है कि मुक्त बाजार से गेहूं की आपूर्ति नहीं हो रही है. पूर्वी भारत की मंडियों में गेहूं की कमी है. जबकि उत्तर प्रदेश की मंडियों में गेहूं का स्टॉक काफी कम है. यूपी की मंडियों में गुजरात से गेहूं आता है. इसके साथ ही PMGKAY के तहत गेहूं का वितरण भी बंद कर दिया गया. ऐसे में मांग अधिक होने से गेहूं की कीमतों में तेजी देखने को मिल रही है. साथ ही आटा चक्कियों के पास गेहूं का संकट भी खड़ा हो गया है.

16 जनवरी 2023 को मंडियों में गेहूं के भाव पर नजर डालें तो इंदौर में 2800 रुपये / क्विंटल, कानपुर मंडी में 3000 रुपये / क्विंटल, राजकोट मंडी में 650 रुपये / क्विंटल, दिल्ली मंडी में 3044.50 रुपये / क्विंटल और 2,687.50 रुपये / क्विंटल है. कोटा में क्विंटल 2,687.50 रुपये / क्विंटल हैं. 

वर्ष 2022 में गेहूं का MSP 2015 रुपये / क्विंटल निर्धारित किया गया था जबकि 2023 में इसे 2125 रुपये / क्विंटल निर्धारित किया गया था. आपको बता दें कि पिछले साल गेहूं की कीमत में 16 फीसदी की बढ़ोतरी हुई थी जबकि आटे की कीमत में 19 फीसदी की बढ़ोतरी हुई थी.