The Chopal

Cholesterol: कोलेस्‍ट्रॉल हार्ट का दुश्मन माना जाता है, आखिर क्‍या होता है ये?

 

The Chopal, New Delhi: हर साल दुनिया भर में कई लोगों की अचानक दिल की बीमारी से मौत हो जाती है. अक्सर दिल के दौरे के लक्षण अचानक सामने आते हैं या पता ही नहीं चलता. वर्तमान में युवाओं में भी यह समस्या तेजी से बढ़ रही है. हेल्थ एक्सपर्ट्स के मुताबिक, ज्यादातर मामलों में खराब लाइफस्टाइल हार्ट अटैक की वजह होती है. खराब खान-पान और शारीरिक गतिविधियों की कमी के कारण शरीर में कोलेस्ट्रॉल बढ़ जाता है, जो हाई ब्लड प्रेशर और दिल से जुड़ी बीमारियों के प्रमुख कारणों में से एक है. 

कोलेस्ट्रॉल क्या है

कोलेस्ट्रॉल लीवर द्वारा बनाया जाने वाला एक प्रकार का फैट है. उच्च वसा वाले खाद्य पदार्थ, फास्ट फूड आदि. जब भी खाओ, खाओ. जब यह शरीर में बहुत अधिक हो जाता है, तो यह नसों में जम जाता है. नतीजतन, शरीर में रक्त संचार ठीक से नहीं हो पाता है. इस वजह से हृदय को रक्त पंप करने के लिए अधिक मेहनत करनी पड़ती है. ऐसे में यह हार्ट अटैक और दिल से जुड़ी तमाम समस्याओं की वजह बन सकता है.

दो तरह का होता है कोलेस्‍ट्रॉल

कोलेस्‍ट्रॉल दो तरह का होता है.  एचडीएल (HDL cholesterol) और एलडीएल (LDL cholesterol). एचडीएल को सेहत के लिए काफी अच्‍छा माना जाता है क्‍योंकि ये हार्ट के लिए अच्‍छा होता है. इसे गुड कोलेस्‍ट्रॉल भी कहा जाता है. ये खून से एक्‍स्‍ट्रा फैट को हटाने का काम करता है. लेकिन एलडीएल को हार्ट के लिए खराब माना जाता है. इसके बढ़ने से हार्ट ठीक से काम नहीं कर पाता. इस कारण तमाम तरह की परेशानियां होती हैं. एलडीएल को खराब कोलेस्‍ट्रॉल के नाम से भी जाना जाता है.

खराब कोलेस्ट्रॉल क्यों बढ़ता है

बैड कोलेस्ट्रॉल के तेजी से बढ़ने के दो कारण होते हैं. पहला, खराब खाना खाएं और दूसरा, फिजिकल एक्टिविटी न करें. हम जो कुछ भी खाते हैं, उसे पचाना भी जरूरी है. लेकिन आजकल लोग जंक फूड वगैरह तो खूब खाते हैं, लेकिन एक्सरसाइज, टहलना या कोई और काम नहीं करते, जिससे खाना पच जाए.

क्या लक्षण दिखाई दे रहे हैं

शरीर में एलडीएल के बढ़ने से सीने में दर्द, भारीपन, सांस लेने में तकलीफ, उच्च रक्तचाप, पैरों में सूजन, शरीर में भारीपन आदि सभी लक्षण दूर हो जाते हैं. इसे नियंत्रित करना बहुत जरूरी है, ताकि हृदय संबंधी समस्याओं को रोका जा सके.

क्या सावधानी बरतें

  • स्वस्थ भोजन खाने को एक आदत बनाएं.
  • बाहर के खाने को कहें अलविदा.
  • खाने में हरी सब्जियां, फल, सूखे मेवे, सलाद, दही आदि शामिल करें. 
  • नियमित व्यायाम करना.
  • रात को देर से खाने की आदत को बदलें और रात का खाना हल्का करें.
  • रात के खाने के आधा घंटा बाद टहलें.
  • अधिक चीनी और नमक खाने से बचें.

Read Also: बच्चों को सर्दी की दवा देने से पहले आपको बरतनी चाहिए ये सावधानियां, जल्द मिलेगी राहत