The Chopal
Health Knowledge: एक छोटी-सी गलती सर्दियों में हार्ट अटैक का कारण बन सकती है और आप खतरे में भी पड़ सकते हैं
 

The Chopal, New Delhi: खान-पान से लेकर दिनचर्या तक सभी लोगों को सर्दी के मौसम में हर स्तर पर अपने स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखना जरूरी है. हेल्थ एक्सपर्ट्स का कहना है कि अगर आप पूरी तरह से स्वस्थ हैं तो भी आपकी जरा सी लापरवाही आपके लिए काफी परेशानी खड़ी कर सकती है. इसी क्रम में सर्दियों में नहाने के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले पानी के प्रकार पर ध्यान देना बेहद जरूरी हो जाता है.

अध्ययनों में पाया गया है कि इस मौसम में ठंडे पानी से नहाने से जानलेवा समस्याएं हो सकती हैं और इनमें से कई मामलों में लोगों की जान भी चली जाती है, इसलिए हम सभी लोगों को विशेष ध्यान देने की सलाह देते हैं. सर्दियों में ठंडे और गर्म पानी से नहाना हानिकारक हो सकता है, हालांकि ठंडे पानी को ज्यादा खतरनाक माना जाता है. नतीजतन, दिल के दौरे और स्ट्रोक जैसी समस्याएं हो सकती हैं, जो घातक हैं. 

ठंडे पानी के संपर्क में आना

सर्दियों में ठंडे पानी से नहाने के कई तरह के खतरे हो सकते हैं. न्यूरोलॉजी विभाग के डॉ. सुधीर कुमार ने ट्विटर पर एक मामले का जिक्र करते हुए कहा कि सर्दी के मौसम में ठंडी फुहारों की वजह से 68 वर्षीय एक व्यक्ति को दौरा पड़ा. इस जलवायु में ठंडे पानी की फुहारों को सुरक्षित नहीं माना जा सकता है क्योंकि इससे खतरनाक और जीवन-धमकी की स्थिति पैदा हो सकती है. ठंडे पानी से नहाने से स्ट्रोक और हार्ट अटैक का खतरा बढ़ जाता है, इसलिए सभी को इससे खास तौर पर सावधान रहना चाहिए.

हो सकती है ठंडे पानी से भी धमनी की समस्या

मामले का जिक्र करते हुए डॉ. सुधीर ने कहा कि मरीज ने नदी में नहाया था, जिसके चलते उसे स्ट्रोक आया था. 26 घंटे तक बात नहीं कर पाने की शिकायत के बाद उन्हें अस्पताल ले जाया गया. एमआरआई स्कैन के आधार पर उनमें स्ट्रोक का पता चला था. इस मौसम में ठंडे पानी से नहाने से भी हार्ट अटैक का खतरा बढ़ जाता है. ठंडे पानी के अचानक संपर्क में आने से मायोकार्डियल इन्फ्रक्शन जैसी स्थिति हो सकती है.

ठंडे पानी में डूबने से शरीर के तापमान में अचानक गिरावट से परिधीय संवहनी प्रतिरोध बढ़ जाता है, एक ऐसी स्थिति जो रक्तचाप को तेजी से बढ़ाती है, जिससे स्ट्रोक और दिल का दौरा पड़ सकता है.

ज्यादा गर्म पानी हानिकारक होता है

सर्दियों में ठंडे पानी से नहाना गंभीर समस्या पैदा कर सकता है, वहीं गर्म पानी से नहाना भी हानिकारक होता है. ज्यादा गर्म पानी से नहाने की आदत से त्वचा संबंधी विकार जैसे रूखापन और खुजली के साथ-साथ बालों की जड़ें कमजोर हो सकती हैं. नहाने के लिए हमेशा गुनगुने पानी का इस्तेमाल करें. पानी का तापमान न तो बहुत अधिक होना चाहिए और न ही बहुत कम. अत्यधिक गर्म पानी से नहाने की आदत त्वचा की प्राकृतिक नमी संतुलन को बदल देती है.

साथ ही इन सावधानियों का भी ध्यान रखें

ठंड होने पर नहाने के लिए शॉवर का इस्तेमाल न करें, बाल्टी में गुनगुना पानी लेकर उससे नहाएं. शरीर पर पानी डालने से पहले पैरों पर पानी डालें, ताकि पानी के तापमान का संकेत मस्तिष्क तक पहुंचे और शरीर के तापमान को उसी के अनुसार नियंत्रित किया जा सके. सर्दियों के दौरान नदियों या तालाबों में नहाने से बचें. यदि आपको उच्च रक्तचाप है, तो इन सावधानियों को अधिक गंभीरता से लेना चाहिए.

नोट: यह लेख स्वास्थ्य विशेषज्ञों की सुझाव के आधार पर तैयार किया गया है. उपरोक्त लेख में उल्लेखित संबंधित बीमारी के बारे में अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से परामर्श लें. The Chopal, लेख में प्रदत्त जानकारी व सूचना को लेकर किसी तरह का दावा नहीं करता है और न ही जिम्मेदारी लेता है.

Read Also: कोलेस्‍ट्रॉल हार्ट का दुश्मन माना जाता है, आखिर क्‍या होता है ये?