The Chopal

कभी एक वक्त के खाने के लिए करना पड़ता था संघर्ष, आज बना अमेरिका में साइंटिस्ट, पढिए सफलता की कहानी!

 

एक व्यक्ति की सफलता के पीछे कई प्रेरक कहानियां छिपी होती हैं. सफलता आसानी से प्राप्त नहीं होती, इसे हासिल करने के लिए दिन-रात मेहनत करनी पड़ती है। इन शख्स का नाम भास्कर हलामी हैं। महाराष्ट्र के गढ़चिरौली के एक सुदूर गांव में जन्मे भास्कर आदिवासी समुदाय से ताल्लुक रखते हैं। उनका जीवन बेहद गरीबी में बीता, जहां उनके परिवार को एक समय का भोजन पाने के लिए भी संघर्ष करना पड़ता था। 

कुरखेड़ा तहसील के चिरचडी गांव में एक आदिवासी समुदाय में पले-बढ़े  भास्कर वर्तमान में मैरीलैंड, USA में एक बायोफार्मास्यूटिकल कंपनी, सिरनाओमिक्स इंक के रिसर्च और डेवलपमेंट सेक्शन में सीनियर साइंटिस्ट है। ये कंपनी जेनेटिक दवाओं में रिसर्च करती है और भास्कर RNA मैन्युफैक्चरिंग और सिंथेसिस का काम देखते हैं।

माता- पिता को दिया अपनी सफला का श्रेय

भास्कर अपनी सफलता का श्रेय अपने माता-पिता को देते हैं, जिन्होंने कड़ी मेहनत की और अपनी मामूली कमाई को उसकी शिक्षा में योगदान दिया। उन्होंने अपने परिवार के लिए चिरचडी में एक घर बनाया है, जहां उनके माता-पिता रहना चाहते थे। बता दें, भास्कर ने कुछ साल पहले अपने पिता को खो दिया था।

शोधकर्ता (researcher) को हाल ही में गढ़चिरौली में राज्य आदिवासी विकास के एडिशनल कमीश्नर रवींद्र ठाकरे द्वारा सम्मानित किया गया था। आदिवासी विकास विभाग ने अपना  ‘A Tea with Tribal Celebrity’ प्रोग्राम  शुरू किया, जिसमें भास्कर हलामी इसके पहले सेलिब्रिटी थे।

ठाकरे ने साइंटिस्ट को नागपुर में एक आदिवासी हॉस्टल में अतिथि के रूप में आमंत्रित किया, जहां बाद में छात्रों को मार्गदर्शन प्रदान किया गया। भारत की अपनी यात्राओं के दौरान, भास्कर स्कूलों, आश्रम स्कूलों, कॉलेजों का दौरा करते हैं और यहां तक ​​कि अपने घर पर छात्रों से मिलते हैं और उन्हें करियर और अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने के तरीकों के बारे में सलाह देते हैं।

आसान नहीं था साइंटिस्ट बनने का सफर

भास्कर के लिए एक सफल साइंटिस्ट बनने की यात्रा बाधाओं से भरी रही है। मुश्किल परिस्थितियों का सामना करते हुए उन्होंने कभी हार नहीं मानी। वह चिरचडी से साइंस ग्रेजुएट और मास्टर डिग्री और पीएचडी हासिल करने वाले गांव के पहले व्यक्ति हैं। भास्कर ने अपना शुरुआती बचपन याद करते हुए कहा,  परिवार बेहद गरीब था, इनकम का खास साधन नहीं था। परिवार बहुत कम संसाधन में जीवन जी रहा था।

उन्होंने आगे कहा, "गरीबी में हमने महुआ के फूल बनाए, जो खाने और पचाने में आसान नहीं थे। हम परसोद (wild rice) इकट्ठा करते थे और चावल के आटे को पानी (ambil) में पकाते थे और अपना पेट भरने के लिए पीते थे। यह सिर्फ हम नहीं थे, बल्कि गांव के 90 प्रतिशत लोगों को इस तरह से जीवित रहना पड़ता था,"

भास्कर ने कहा, "हमें एक समय का भोजन पाने के लिए भी काफी संघर्ष करना पड़ता था। मेरे माता-पिता आज भी सोचते हैं, कि उस समय परिवार कैसे जीवित रहा था, जब न तो भोजन था और न ही काम" भास्कर ने कहा, "साल के कुछ महीने, विशेष रूप से मानसून अविश्वसनीय रूप से कठिन थे, क्योंकि परिवार के पास छोटे खेत में कोई फसल नहीं थी और कोई काम नहीं था"

"चिरचडी 400 से 500 परिवारों का घर है। भास्कर के माता-पिता गांव में घरेलू सहायिका के रूप में काम करते थे, क्योंकि उनके छोटे से खेत से पैदान होने वाली फसलें परिवार का भरण पोषण करने के लिए पर्याप्त नहीं थी"
जब हालात हुए थोड़े बेहतर हालात तब बेहतर हुए जब सातवीं कक्षा तक पढ़ चुके भा्स्कर के पिता को पता चला कि 100 किमी से अधिक दूर कसानसुर तहसील के एक स्कूल में नौकरी खुल गई है, जिसके बाद उनके वहां  जाने के लिए घर से निकल गए।

भास्कर ने बताया,  "मेरी मां के पास यह जानने का कोई तरीका नहीं था कि मेरे पिता वहां पहुंचे हैं या नहीं। हमें उसके बारे में तभी पता चला जब पिता तीन-चार महीने बाद हमारे गांव लौटे। उन्होंने कसानसुर के स्कूल में रसोइया की नौकरी की थी, जिसके बाद हम वहीं शिफ्ट हो गए"

भास्कर ने यहां से की थी पढ़ाई

भास्कर ने अपनी प्रारंभिक स्कूली शिक्षा कक्षा 1 से 4 तक कसानसुर के एक आश्रम स्कूल में की, और एक स्कॉलरशिप परीक्षा पास करने के बाद, उन्होंने कक्षा 10वीं तक यवतमाल के सरकारी विद्यानिकेतन केलापुर में पढ़ाई की। उन्होंने कहा, "मेरे पिता ने शिक्षा के मूल्य को समझा और यह सुनिश्चित किया कि मैं और मेरे भाई-बहन अपनी पढ़ाई पूरी करें,"

स्कूल की पढ़ाई पूरी होने के बाद गढ़चिरौली के एक कॉलेज से साइंस ग्रेजुएट की डिग्री प्राप्त करने के बाद, भास्कर ने नागपुर में इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस से केमिस्ट्री में पोस्टग्रेजुएट की डिग्री हासिल की। साल  2003 में, हलमी को नागपुर में प्रतिष्ठित लक्ष्मीनारायण इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (LIT) में असिस्टेंट प्रोफेसर के रूप में नियुक्त किया गया था।

जब उन्होंने महाराष्ट्र लोक सेवा आयोग (MPSC) की परीक्षा पास की। इसी के साथ भास्कर का ध्यान रिसर्च पर बना रहा और उन्होंने  संयुक्त राज्य अमेरिका में पीएचडी की पढ़ाई की और अपने रिसर्च के लिए DNA और RNA को चुना। भास्कर ने मिशिगन टेक्नोलॉजिकल यूनिवर्सिटी से पीएचडी की डिग्री हासिल की। DNA/RNA के क्षेत्र में प्रतिभा की तलाश कर रहे नियोक्ताओं से अब टॉप रिसर्चर्स को हर हफ्ते कम से कम दो ईमेल मिलते हैं।