The Chopal
खुशखबरी! इस राज्य ने तोड़ा न्यूनतम समर्थन मूल्य पर धान खरीदी का रिकॉर्ड, किसानों से 8.93 लाख टन की खरीद
 

The Chopal: देश के लगभग राज्यों में सरकार द्वारा धन की खरीद शुरू भी हो चुकी है। और इस बार सबसे तेज गति से खरीद तेलंगाना राज्य में की जा रही है। बीते सोमवार तक राज्य के 1.32 लाख किसानों से करीब 8.93 लाख टन की खरीद की गई. पिछले खरीफ सीजन के दौरान अब तक लगभग 8.1 लाख टन धान की खरीद की गई थी.राज्य के नागरिक आपूर्ति मंत्री गंगुला कमलाकर ने मंगलवार को आयोजित समीक्षा बैठक में नागरिक आपूर्ति विभाग के अधिकारियों को निर्देश भी दिया कि सभी खरीद केंद्रों पर सुचारू लेन-देन सुनिश्चित करने के लिए मॉइश्चर मशीन, धान की सफाई करने वाली मशीन और बारदाना सहित अन्य सभी व्यवस्थाएं सही की जाएं.

NCDEX पर गम के भावों में तेजी से ग्वार सीड में 23% तक उछाल, किसान जानें आगे क्या रहेगा हाल

राज्य में अभी तक उपार्जित धान के भण्डारण में लगभग 2.23 करोड़ बारदानों का प्रयोग किया जा चुका है. खरीफ सीजन में पैदा होने वाले पूरे धान की खरीद किसानों से नवंबर और दिसंबर माह में की जाएगी. इसके अलावा, मंत्री ने किसानों को तेजी से खरीद सुनिश्चित करने के लिए केंद्र सरकार द्वारा निर्धारित उचित औसत गुणवत्ता वाले धान लाने की सलाह भी दी. ग्रेड ए धान न्यूनतम समर्थन मूल्य 2,060 रुपये प्रति क्विंटल और सामान्य ग्रेड धान 2,040 रुपये प्रति क्विंटल के न्यूनतम समर्थन मूल्य पर अब खरीदा जा रहा है. राज्य में करीब 4,579 खरीद केंद्र स्थापित किए गए हैं और धान की कटाई बढ़ने पर उनमें से और भी नए खरीद केंद्र खोले जाएंगे.

सूत्रों के मुताबिक , राज्य भर में करीब 64 लाख एकड़ में धान की खेती की गई थी और लगभग 1.51 करोड़ मीट्रिक टन धान के बाजार में आने की उम्मीद थी, जिसमें से 1 करोड़ मीट्रिक टन की खरीद राज्य सरकार द्वारा की जाएगी.

इस बार 518 एलएमटी की खरीद का अंदाजा 

आपको बता दें कि तेलंगाना के साथ- साथ कई अन्य राज्यों में धान की खरीद चल रही है. बीते दिनों केंद्र सरकार ने कहा था कि 2022-23 खरीफ फसल के लिए धान की खरीद 13 राज्यों / केंद्र शासित प्रदेशों में सुचारू रूप से अभी चल रही है. पंजाब, चंडीगढ़, छत्तीसगढ़, उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश, बिहार, उत्तर प्रदेश, गुजरात, जम्मू-कश्मीर, केरल, तेलंगाना, हरियाणा और तमिलनाडु राज्यों में पिछले वर्ष की तुलना में 10.11.2022 तक 231 एलएमटी से ज्यादा धान की खरीद हुई है, जबकि पिछले वर्ष करीब 228 एलएमटी धान की खरीद हुई थी. ऐसे भी देश में इस साल बारिश की स्थिति काफी बढ़िया रही है और धान का उत्पादन सामान्य रहने की उम्मीद भी है. वर्तमान केएमएस 2022-23 की खरीफ फसल के लिए, 771 एलएमटी धान (चावल के मामले में 518 एलएमटी) की खरीद का अनुमान सरकार द्वारा लगाया गया है.