The Chopal
दीमक पहुंचा रही है किसानों की फसलों को नुकसान, बेहद आसान है रोकथाम और उपाय
 

Termite Treatment: देश में करीब 45% से अधिक फसलों को दीमक द्वारा नष्ट करती है. और जमीन में सुरंग बनाकर पौधों की जड़ों और तनों को भी नुकसान पहुंचाती है. दीमक हल्की गीली और नमी वाली मिट्टी में अपनी लार को मिलाकर बस्तियों का निर्माण किया जाता हैं.

किसानों के लिए खतरा 

दीमक खेती के लिए एक भयंकर बीमारी है जो किसानों की सारी मेहनत खराब कर देती है. अगर यह पौधे में लग जाती है उसे बचाकर रख पाना बहुत मुश्किल होता है. फसलों को नुकसान पहुंचाने वाले कीटों में सबसे अधिक खतरनाक दीमक है.

क्या होती है दीमक (what is termite)

दीमक चींटी की तरह दिखाई देने वाला एक छोटा कीट होता हैं जो घर में लकड़ी से बनी वस्तुओं, दीवारों तक को जर्जर कर देता है और घर के बाहर हमारे बाग बगीचों और खेतों पर हमला कर देता है.

दीमक बनाती है बस्तियां 

दीमक 20 से 30 लाख साल पुराना कीट है. जो चीटियों की तरह अपनी बस्तियां बनाती है यह गर्म और शीतोष्ण क्षेत्रों में ज्यादा पैदा होती हैं. चीटियों की तरह इनकी भी बस्तियां बनाती है और इनकी बस्तियों को termitarium बोला जाता है. आप सोच रहे होंगे कि यह किस तरह बस्तियां बनाते हैं. दीमक हल्की गीली और नमी वाली मिट्टी में अपनी लार को मिलाकर बस्तियों का निर्माण किया जाता हैं.

चीटियों की तरह ही दीमक को भी राजा, रानी, श्रमिक और सैनिक दीमक में बांटा जाता है और जो हानि हमारे घरों, बाग- बगीचों और खेत खलिहानों को पहुंचाते है, उसके लिए श्रमिक दिमाग को ही उत्तरदाई कहा जाता है.

दीमक से छुटकारा पाना थोड़ा मुश्किल हो जाता है, जब यह एक बार लग जाती है तो बहुत सारा नुकसान कर देती है. दीमक को भगाने के लिए की तरह के प्राकृतिक और रासायनिक तरीके अपनाए जाते हैं.

पेड़-पौधों को दीमक से बचानें के रासायनिक तरीके 

पौधों को दीमक से छुटकारा दिलाने के लिए मिट्टी संभाल रखना बहुत जरूरी है. मिट्टी में अगर दीमक के संक्रमण को रोक दिया जाए तो यह पेड़-पौधों तक नहीं पहुँच जाएगी. वर्षा ऋतु में जब नए संक्रमण शुरू होता है तब पौधों, फसलों बगीचों और घर के फर्नीचरों के लिए क्लोरपीरिफॉस का उपयोग करें, क्योंकि यह लंबे समय तक असर दिखाने वाला कीटनाशक माना जाता है। इसे कुल 19 लीटर पानी में 1 लीटर तक मिलाया जाता है.

लिंडेन 20% ईसी (Lindane 20% EC) की एक लीटर मात्रा को 19 लीटर पानी में मिलाकर पौधों में छिड़काव करना चाहिए. इमिडाक्लोप्रिड 30.5% एससी की  10.5 मिली लीटर मात्रा को 5 लीटर पानी में मिलाकर पेड़ पौधों की जड़ों में छिड़काव करें. 

ऑररसैनिकडाइऑक्साइड जिसे वाइट ऑरसैनिक बोला जाता है, यह भी एक गंधहीन और स्वादहीन सफेद रंग का रसायनिक पाउडर होता है जो पानी में घुलशील होता है. इसका छिड़काव दीमक नियंत्रण के लिए किया जाता है. पर्मेथ्रिन (Permethrin) का प्रयोग भूमिगत दीमक के नियंत्रण होता है.

दीमक से बचाव करने के प्राकृतिक तरीके

पेड़ पौधों को दीमक से बचानें के प्राकृतिक तरीकों का बहुत चलन होता है. इसके लिए सूत्रकृमि का उपयोग होता है. परजीवी कीड़ों को भी दीमक की कॉलोनियों को नष्ट करने के लिए प्रयोग किया जाता है. परजीवी निमेटोड को दीमक बहुत पसंद की जाती है और यह आसपास की दुकानों में आसानी से उपलब्ध होता है. इसे ऑनलाइन भी ऑर्डर होता है. नेमाटोड लगातार प्रजनन करते रहते हैं और दीमक को तब तक खाते हैं, जब तक कि पूरी कॉलोनियां खत्म नहीं हो जातीं है.

Also Read: Petrol-Diesel Rate Today: आज आमजन को राहत, पढ़िए क्रूड ऑयल व अलग-अलग शहरों में ईंधन का रेट