The Chopal

Google Assistant सब कुछ बताएगा, इस राज्य वाले प्रयोग करने में सबसे आगे

 

The Chopal, New Delhi: गूगल के वॉयस सर्च फीचर की पूरी दुनिया में काफी सराहना की जाती है. क्योंकि इसके साथ ही वॉयस कमांड से ही काफी काम हो जाता है. ऐसे में भारतीय भी इस फीचर का जमकर इस्तेमाल करने लगे हैं. Google अपने उपयोगकर्ताओं को ध्वनि खोज सुविधा प्रदान करता है. इस फीचर के जरिए यूजर्स सिर्फ वॉयस कमांड के जरिए काफी कुछ कर सकते हैं. Google पर कुछ कैसे सर्च करें. आपको किसी भी काम के लिए Google Assistant से पूछना पड़ता है. ओके गूगल या हेलो गूगल कहने से आज कई काम हो जाते हैं. आजकल यूजर्स इस सुविधा का फायदा उठा रहे हैं. क्योंकि आज स्मार्ट वॉच और स्मार्ट स्पीकर में वॉयस सर्च फंक्शन भी उपलब्ध है.

2021-2022 से सिर्फ एक साल में भारत में गूगल वॉयस सर्च की संख्या में 78 फीसदी की बढ़ोतरी देखी गई है. इस स्टडी में वॉयस सर्च के मामले में आंध्र प्रदेश, अंडमान-निकोबार और सिक्किम को लिस्ट में सबसे ऊपर बताया गया था. जबकि दिल्ली, चंडीगढ़ और केरल वॉयस सर्च का कम इस्तेमाल करते हैं. दुनिया भर में करीब 32 फीसदी लोग इस फीचर का इस्तेमाल करते हैं.

इसका उपयोग मुख्य रूप से गाने सुनने के लिए किया जाता है. 74 फीसदी लोग गाने सुनने के लिए वॉयस सर्च फीचर का इस्तेमाल करते हैं. इसी तरह 66 फीसदी लोग मौसम के लिए और 66 फीसदी लोग अलार्म/रिमाइंडर के लिए इसका इस्तेमाल करते हैं.

यह आंकड़ा 2023 में दिया जाएगा

रिपोर्ट के मुताबिक वॉयस सर्च करने वालों की संख्या तेजी से बढ़ रही है और साल 2023 तक करीब 8 अरब लोग वॉयस सर्च फीचर का इस्तेमाल करेंगे. खास बात यह है कि अमेरिका में भी 51 फीसदी लोग वॉयस सर्च के जरिए खरीदारी करते हैं.

इसका सबसे ज्यादा इस्तेमाल कहाँ होता है

रिपोर्ट के मुताबिक, कॉमन रूम में करीब 52 फीसदी लोग आवाज से सर्च करते हैं. इसलिए 25 फीसदी लोग बेडरूम में वॉयस सर्च का इस्तेमाल करते हैं. इसी तरह 22 फीसदी लोग किचन में इस फीचर का इस्तेमाल करते हैं.

कार में इतने करोड़ का इस्तेमाल

यूएस में 130 मिलियन, जर्मनी में 30 मिलियन और यूके में 20 मिलियन लोग अपनी कारों में ध्वनि खोज का उपयोग करते हैं.

Read Also: आप Digilocker ऐप में जरूरी डॉक्युमेंट्स को सेव कर सकते हैं, सुरक्षित रहेंगे, अकाउंट बनाना जरूरी