The Chopal

किसान को राहत! फसल नुकसान की भरपाई के लिए इस राज्य सरकार ने जारी की 223 करोड़ रुपये की राशि

 

Crop Compensation In Karnataka: पीएम किसान सम्मान निधि की 13 वीं किस्त किसानों को अभी नहीं मिली है. किसानों को बेसब्री से किस्त खाते में आने का इंतजार भी है. हालांकि केंद्र सरकार की ओर से लगातार कई तरह के कदम उठाए जा रहे है कि किसी भी सूरत में अपात्र किसान के खाते में किस्त न पहुंचने पाए. अब इस राज्य सरकार ने इसी कड़ी में कई कदम उठाए हैं. कर्नाटक राज्य सरकार ने किसानों को करोड़ों रुपये का मुआवजा भी जारी कर दिया है. 

तुअर फसल नुकसान को 223 करोड़ रुपये जारी

कर्नाटक में किसानों को दलहनी फसलों का नुकसान भी हो जाता है. अब राज्य सरकार की तरफ से एलान किया गया है कि तुअर(अरहर) फसल नुकसान के मुआवजे के लिए किसानों को 223 करोड़ रुपये भी दिए जाएंगे. आदेश के अनुसार, बीदर, कलबुर्गी और यादगिरी में जिले में तुअर की फसल नुकसान को विशेष तौर पर ज्यादा माना गया है. 

10000 रुपये प्रति हेक्टेयर की दर से मिलेगा अब मुआवजा

मुख्यमंत्री कार्यालय की ओर से जारी आदेश अनुसार राज्य सरकार ने किसानों को 10 हजार रुपये प्रति हेक्टेयर किसानों को देने की घोषणा भी की गई है. लेकिन एनडीआरएफ या एसडीआरएफ की गाइड लाइन अनुसार इस योजना के तहत एक किसान को अधिकतम 2 हेक्टेयर फसल का मुआवजा ही मिलेगा. 

कुल 60 लाख किसान हैं पंजिकृत

आंकड़ों के मुताबिक, पीएम किसान योजना के अंतर्गत करीब 60 लाख किसान पंजिकृत हैं. पीएम किसान का लाभ लेने वाले सभी किसानों को इस योजना का लाभ भी दिया जाएगा. सरकारी बयान मुताबिक, तुअर उत्पादकों को 223 करोड़ रुपये का नुकसान का मुआवजा भी दिया जाएगा. तुअर की करीब 2.2278 लाख हेक्टेयर रकबे में फसल प्रभावित हुई है. अब से पहले बिहार, झारखंड सरकार ने भी सूखा प्रभावित किसानों के लिए आर्थिक मदद जारी की थी. झारखंड में 200 से अधिक प्रखंड सूखा प्रभावित थी. गरीब परिवारों के लिए किसानों ने करोड़ां रुपये जारी भी किए

Also Read: राजस्थान में फसलों की बर्बादी का मंजर देख खून के आंसू रो रहे किसान,सरकार ने मांगी गिरदावरी रिपोर्ट