The Chopal

Farming Idea: खीरे की फसल ने बदल डाली इस किसान की किस्मत, हो रही 15 लाख की कमाई, आप भी जानिए तरीका

 

The Chopal, New Delhi: देश में कई किसान अब पारंपरिक खेती जैसे गेहूं, चावल, दलहन और तिलहन के बजाय नई फसलों की कोशिश कर रहे हैं. कई किसान नई कृषि गतिविधियों को आजमाकर अपनी आय बढ़ाने में भी सक्षम हुए हैं. देश के कई क्षेत्रों में किसान हाइड्रोपोनिक्स का अभ्यास करते हैं जबकि कई क्षेत्रों में किसानों ने पारंपरिक फसलों के बजाय सब्जियां और फल उगाना शुरू कर दिया है और इस तरह बहुत अच्छा मुनाफा कमाया है.

राजस्थान के नागौर में रहने वाले रामनिवास को पॉलीहाउस तकनीक से उगाया जाता है. रामनिवास अपने खेत में खीरा उगाते हैं. आपका लाभ विकल्प के बाजार मूल्य पर निर्भर करता है. साल में दो-तीन बार खीरा उगाते हैं, जिससे 14-15 हजार रुपए की कमाई हो जाती है. किसानों में खेती के प्रति बढ़ती जागरूकता अब उन्हें पारंपरिक खेती से अलग करती है. पॉलीथिन और जालीदार घरों में खीरे और मिर्च उगाकर रामनिवास अच्छी कमाई करते हैं.

साल में तीन फसलें

रामनिवास ने बताया कि एक एकड़ में खीरे के बीज की कीमत 70 हजार रुपए के करीब है. खेत की जुताई से लेकर फसल की कटाई तक की लागत 300,000 रूबल तक पहुँच जाती है. एक सीजन में खीरे की फसल 4 महीने में कटाई के लिए तैयार हो जाती है. 1 एकड़ में 400 क्विंटल तक खीरा प्राप्त होता है, जिससे उन्हें 800,000 रूबल का मुनाफा होता है.

विकल्प मूल्य का प्रभाव

इस साल अक्टूबर में खीरा 40 रुपये किलो तक बिक रहा था, जिससे अच्छा खासा मुनाफा हो रहा है. खीरे के भाव 15-20 रुपये किलो रहने पर रामनिवास को थोड़ा नुकसान होता है. रामनिवास साल में तीन बार खीरे की फसल लगाते हैं, इसके साथ ही वह हरी मिर्च भी लगाते हैं, जिससे उन्हें साल में 15 लाख डॉलर तक की कमाई हो जाती है.

बहुत सारे खर्चे हटा दें

रामनेवास के अनुसार खीरा उगाने में ज्यादा मशक्कत नहीं करनी पड़ती. 3 से 4 महीने में खीरे का उत्पादन शुरू हो जाता है. खीरे के बीज बोने के लिए मजदूरों को रखने की जरूरत नहीं है, इससे उन्हें काफी खर्च से छुटकारा मिल सकता है.

जैविक खाद के फायदे

रामनिवास रासायनिक खादों के बजाय पूरी तरह से जैविक खादों के उपयोग के लिए धन्यवाद देते हैं. रामनिवास ने कहा, अगर किसान सरकार की मदद से नई तकनीकों का इस्तेमाल करते हैं, तो उनकी पैदावार नाटकीय रूप से बढ़ सकती है.

पोलीहाउस लागत

पोली हाउस शेड नेट लगाने की लागत 20 रुपये है. सरकार प्रत्येक क्षेत्र के लिए लक्ष्य निर्धारित करती है. नागौर जिले, राजस्थान में, जिले के 25 किसानों को बहु-आवास सब्सिडी प्रदान करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है, जबकि इतने ही किसान ग्रिड-हाउस सब्सिडी प्राप्त करते हैं.

Read Also: इस साल नवंबर में कॉटन की आवक 30% गिरी, भावों में तेजी के आसार, क्या करें किसान?